प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस के बीच शुक्रवार को पहली बार व्यक्तिगत मुलाकात हुई. व्हाइट हाउस  में हुई इस मीटिंग के दौरान पीएम मोदी ने हैरिस को भारत आने का न्यौता दिया. साथ ही उन्होंने कहा कि वे दुनियाभर में कई लोगों के लिए प्रेरणा हैं. उप-राष्ट्रपति ने भी कहा कि भारत और अमेरिका के साथ काम करने का दुनिया पर गहरा असर होगा. पीएम मोदी तीन दिनों के लिए अमेरिका के दौरे पर हैं. इस दौरान वे QUAD मीटिंग, UNGA में हिस्सा लेंगे.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीएम मोदी ने कहा, ‘अमेरिका की उप राष्ट्रपति के तौर पर आपका चुनाव जरूरी और ऐतिहासिक मौका था. आप दुनियाभर में कई लोगों के लिए प्रेरणा हैं. मुझे भरोसा है कि राष्ट्रपति बाइडन और आपके नेतृत्व के तहत हमारे द्विपक्षीय संबंध नई ऊंचाइयों को छुएंगे.’ पीएम मोदी ने हैरिस को भारत आने का न्यौता दिया.

उन्होंने कहा, ‘आपकी जीत का सफर जारी रखते हुए, भारतीय चाहते हैं कि आप इसे भारत में भी जारी रखें और आपके भारत आने का इंतजार करेंगे, इसलिए मैं आपको भारत आने का आमंत्रण देता हूं.’ कमला हैरिस ने इस बात पर जोर दिया कि भारत और अमेरिका के साथ काम करने से दोनों देशों के लोगों पर ही नहीं, बल्कि विश्व पर गहरा असर पड़ेगा. उन्होंने कोविड-19 समेत कई मौकों पर दोनों देशों के बीच नजर आए सहयोग का जिक्र किया.

उन्होंने कहा, ‘हमारे पास एक तरह का संकट कोविड-19 और खुले और मुक्त हिंद-प्रशांत क्षेत्र को लेकर हमारे साझा विश्वास का महत्व था. कोविड-19 पर हमारे देशों ने मिलकर काम किया. महामारी की शुरुआत में भारत अन्य देशों को वैक्सीन पहुंचाने का अहम स्त्रोत था.’ इस दौरान पीएम ने कमला हैरिस के साथ जून में हुई बातचीत का भी जिक्र किया और कहा कि आपने जिस तरह से मुझसे बात की थी वह हमेशा याद रहेगा.

पीएम मोदी ने कहा, ‘मुझसे बात करने के वक्त आपने जिन शब्दों को चुना, मैं उन्हें हमेशा याद रखूंगा और मैं दिल की गहराइयों से आपका धन्यवाद देना चाहता हूं.’ उन्होंने कहा, ‘एक सच्चे दोस्त की तरह आपने सहयोग और संवेदनशीलता से भरा हुआ संदेश दिया और तत्काल हमने पाया कि अमेरिकी सरकार, कॉर्पोरेट सेक्टर और भारतीय समुदाय भारत की मदद करने के लिए एक साथ आया है.’ कमला हैरिस ने भारत के कोविड-19 वैक्सीन निर्यात दोबारा शुरू करने के फैसले की भी तारीफ की.