पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपनी सुरक्षा में कटौती करने का ऐलान किया है. गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि मुझे सुरक्षा देने के लिए एक हजार सुरक्षा कर्मियों की जरूरत नहीं है. सरकारी विभागों में भी कामों को लेकर सीएम चन्नी सख्त नजर आ रहे हैं. मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद पहली ही बैठक में उन्होंने सरकारी विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों को सुबह 9 बजे दफ्तर पहुंचने के लिए कहा था.

पंजाब के एक विश्वविद्यालय में संबोधन के दौरान सीएम चन्नी ने कहा कि उन्होंने अपने ही भाइयों से बचाने के लिए सेना की जरूरत नहीं है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उन्होंने कहा, ‘मैं आप में से एक हूं और मुझे अपने भाइयों से ही सुरक्षा देने के लिए 1000 सुरक्षा कर्मियों की सेना की जरूरत नहीं है.’ साथ ही उन्होंने अपनी सुरक्षा घटाने का भी ऐलान किया है.

भाषा के अनुसार, सीएम ने जान के खतरे के जोखिम को खारिज करते हुए कहा कि वह एक ‘आम आदमी’ हैं और ‘हर पंजाबी के भाई हैं.’ चन्नी ने कहा कि कार्यभार संभालने के बाद उन्हें यह जानकार आश्चर्य हुआ कि उनकी सुरक्षा के लिए 1,000 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं. इसे ”सरकारी संसाधनों की सरासर बर्बादी’ करार देते हुए उन्होंने कहा कि ‘इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती क्योंकि मेरे अपने पंजाबी मुझे क्या हानि पहुंचा सकते हैं जबकि मैं भी उनकी तरह एक आम आदमी हूं.’