देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर में शुक्रवार शाम से शुरू हुई झमाझम बारिश की वजह से कई इलाकों में जलजमाव हो गया है. वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक, आज पूरे दिन बादल छाए रहने के साथ भारी बारिश जारी रहेगी. इससे पहले मौसम विभाग ने बारिश को देखते हुए येलो अलर्ट जारी किया था.

वहीं, मौसम विभाग ने दिल्‍ली के साथ फरीदाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, मोदीनगर, हापुड़, बुलंदशहर के आसपास क्षेत्रों में 20-40 किमी/ घंटे की गति की हवा चलने के साथ मध्यम से भारी बारिश की संभावना बताई है. जबकि दिल्‍ली-एनसीआर और यूपी के अलावा आज यानी 11 सितंबर को पश्चिमी राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी भारी बारिश देखने को मिल सकती है. वहीं, मौसम विभाग ने छत्तीसगढ़, मराठवाड़ा, उत्तर मध्य महाराष्ट्र, उत्तरी कोंकण और गुजरात के हिस्सों में मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी किया है.

मौसम पर‍िस्‍थ‍ित‍ियों में हो रहे बदलाव और हिंद महासागर में दो मौसमी परिस्थितियों के सक्र‍िय होने का असर द‍िल्‍ली ही नहीं बल्‍क‍ि उत्‍तर भारत और मध्‍य भारत के राज्‍यों में देखने को म‍िल रहा है. आमतौर पर जुलाई-अगस्‍त में होने वाली भारी बारिश स‍ितंबर माह में खूब देखने को म‍िल रही है. राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के वैज्ञानिक मानते हैं क‍ि अभी 10 दिनों तक बारिश की संभावना बनी हुई है. मौसमी परिस्थितियों में लगातार बदलाव की वजह से 16 सितंबर से दिल्ली समेत समूचे उत्तर भारत में बारिश की उम्मीद बनी हुई है.

मौसम विशेषज्ञों का कहना है क‍ि इस समय हिंद महासागर में दो मौसमी परिस्थितियां सक्रिय हैं. इनको हिंद महासागर द्विध्रुव (इंडियन ओशन डाइपॉल) व मैडेन जूलियन ऑसीलेशन (एमजेओ) नाम से जाना जाता है. इनकी वजह से ही दिल्ली समेत उत्तर भारत की मानसूनी बारिश प्रभावित हो रही हैं. इससे समूचे उत्तर भारत में सामान्य से अधिक वर्षा हो रही है. आने वाले दिनों में भी इसल‍िये इसका सिलसिला जारी रहेगा. मौसम विज्ञानियों का अनुमान यह क‍ि पिछले सालों की तुलना में इस बार नया रिकॉर्ड भी स्थापित हो सकता है.