अफगानिस्‍तान में तालिबान के कब्‍जे के बाद पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को इस समय मजबूत स्थिति में देखा जा रहा है. अफगानिस्‍तान में तालिबान को पाकिस्‍तानी मदद मिलने की भी बातें सामने आई हैं. वही अब भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक अफगानिस्‍तान के बाद पाकिस्‍तान जम्‍मू कश्‍मीर पर नजर गड़ा सकता है. वह इसके लिए आक्रामक रणनीति पर भी काम कर सकता है.

अफगानिस्‍तान पर तालिबान के कब्‍जे के पहले ही आईएसआई लश्‍कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्‍मद और अल बद्र जैसे आतंकी संगठनों के आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ कराने का प्रयास कर चुकी है. ऐसा पिछले 2 महीने में देखने को मिला है. सुरक्षा एजेंसी के एक सूत्र के अनुसार जम्‍मू कश्‍मीर में इस समय करीब 200 आतंकी सक्रिय हैं. इनमें विदेशी आतंकी भी शामिल हैं. वे आतंकी हमले के लिए आईएसआई के इशारे का इंतजार कर रहे हैं.

आईएसआई के इन नापाक मंसूबों को नाकाम करने के लिए भारतीय सुरक्षाबल पाकिस्‍तान से लगी सीमा पर सर्विलांस और जवानों की संख्‍या बढ़ा रहे हैं. वहीं जम्‍मू कश्‍मीर में गांवों में घुसपैठ करके आने वाले विदेशी आतंकियों को पनाह न दी जाए, इसके लिए जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस लगातार उनके पनाहगारों की पहचान कर रही है. यह लोग विदेशी आतंकियों को पनाह देते हैं और उनके मंसूबों को सफल बनाने के लिए उनका साथ देते हैं.