देश में कोरोना वायरस महामारी की संभावित तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है. कोरोना के डेल्टा स्वरूप का खतरा भी अभी नहीं टला है. अधिक तेजी से फैलने वाला यह वेरिएंट पूरी दुनिया में कोहराम मचा रहा है. इस बीच, डेंगू और वायरल बुखार ने भारत के कई राज्यों को अपनी जद में ले लिया है.

बता दें, सबसे अधिक असर तो उत्तर प्रदेश में हुआ, जहां डेंगू से मरने वालों की तादाद 75 तक जा पहुंची है. इसके अलावा दिल्ली, मध्य प्रदेश और दूसरे राज्यों में भी डेंगू के मरीज काफी संख्या में आ रहे हैं, जिससे अस्पताल पर बोझ बढ़ता जा रहा है. बड़ी संख्या में मरीजों के अस्पताल पहुंचने से डॉक्टर और स्वास्थ्य अधिकारी भी काफी परेशान हैं. डेंगू के मच्छर साफ और स्थिर पानी में पैदा होते हैं, जबकि मलेरिया के मच्छर गंदे पानी में भी पनपते हैं.

उत्तर प्रदेश में डेंगू से करीब 100 लोगों की मौत हो चुकी है. फिरोजाबाद में डेंगू और वायरल बुखार ने अब तक 75 लोगों की जान ले ली है. मथुरा में 17 लोगों को इस बीमारी की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है, जबकि कानपुर में सात दिनों के भीतर ही 10 लोगों की मौत हो चुकी है. डेंगू के साथ ही वायरल बुखार भी अपना असर दिखा रहा है. प्रदेश के गोंडा जिले में हर रोज 3000 से अधिक मरीज संदिग्ध बुखार के शिकार हो रहे हैं.