भारतीय निशानेबाज अवनि लेखरा  ने टोक्यो पैरालंपिक में कमाल कर दिया. उन्‍होंने सोमवार को गोल्डन निशाना लगाकर इतिहास रच दिया. ओलंपिक हो या फिर पैरालंपिक… भारत की पहली गोल्‍डन गर्ल बनने का ताज तो अवनि के सिर पर सज गया. अवनि महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के क्लास एसएच 1 में टॉप पर रहीं.

उन्‍होंने क्वालीफिकेशन राउंड में 21 निशानेबाजों के बीच 7वें स्थान पर रहकर फाइनल्स में प्रवेश किया.अवनि लेखरा पैरालंपिक में मेडल जीतने वाली तीसरी भारतीय खिलाड़ी हैं. उनसे पहले भाविना पटेल और दीपा मलिक भी इन खेलों में मेडल जीत चुकी हैं.

अवनि भारत की पहली गोल्‍डन गर्ल है. ओलंपिक में भी आज तक किसी भारतीय महिला ने गोल्‍ड नहीं जीता. पीवी सिंधु और मीराबाई चानू ने सिल्‍वर जीता था. ऐसे में अवनि ओलंपिक या पैरालंपिक में गोल्‍ड जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई हैं. वह पैरालंपिक खेलों में गोल्ड जीतने वाली सिर्फ चौथी भारतीय खिलाड़ी हैं. पहला गोल्ड मुरलीकांत पेटकर ने 1972 पैरालंपिक में दिलाया था. दूसरा और तीसरा देवेंद्र झाझरिया ने और चौथा मरियप्पन थंगावेलु ने दिलाया.

अवनि लेखरा ओलंपिक-पैरालंपिक खेलों में गोल्ड जीतने वाली छठी भारतीय हैं. उनसे पहले पैरालंपिक खेलों में मुरलीकांत पेटकर, देवेंद्र झाझरिया और मरियप्पन थंगावेलु गोल्ड जीत चुके हैं. वहीं ओलंपिक खेलों में अभिनव बिंद्रा ने बीजिंग ओलंपिक 2008 में गोल्ड जबकि नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में स्वर्ण पदक अपने नाम किया.