सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू करेगा, जिससे यूजर्स प्लेटफॉर्म पर गलत कंटेंट को चिह्नित कर सकेंगे. ट्विटर का ये प्रयास अपने प्लैटफॉर्म में भ्रामक जानकारियों को कम करना है. शुरुआत में ट्विटर का नया फीचर यूनाइटेड स्टेट्स, साउथ कोरिया और ऑस्ट्रेलिया के कुछ यूज़र्स के लिए पेश किया जाएगा. ट्विटर यूज़र्स ‘report tweet’ पर क्लिक करके ‘य भ्रामक है’ सेलेक्ट कर सकेंगे. सोशल मीडिया दिग्गज ने कहा, ‘हम आपके लिए ऐसे ट्वीट्स को रिपोर्ट करने के लिए एक सुविधा का टेस्टिंग कर रहे हैं जो भ्रामक लगते हैं – जैसा कि आप उन्हें देखते हैं,

ट्विटर ने कहा कि भ्रामक ट्वीट को रिपोर्ट करने में यूज़र्स अधिक विशिष्ट हो सकते हैं. यूज़र्स पॉलिटिकल, हेल्थ से जुड़े ट्वीट को रिपोर्ट कर सकते हैं, जो कि इलेक्शन और COVID-19 से जुड़े सब-कैटेगरी ट्वीट के रूप में आते हैं.

ट्विटर में अपने स्टेटमेंट में कहा कि ऐसा हो सकता है एक्सपेरिमेंट के दौरान हम एक-ए क रिपोर्ट पर एक्शन न ले सकें, लेकिन यूज़र के इनपुट से हमें ट्रेंड को समझने में मदद मिलेगी और हमने इस फीचर पर तेजी से काम कर सकेंगे.

ट्विटर ने बताया कि एक बार यूज़र के ट्वीट को ‘मिसलीडिंग’ मार्क करने के बाद, उसे ऑटोमेटेड टेक्नोलॉजी और ह्यूमन मॉडरेटर रिव्यू करेंगे और फिर ये तय करेंगे की एक्शन लेना है या नहीं.