प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की बैठक में अफगानिस्तान से भारतीय नागरिकों को निकालने के लिए सरकार की रणनीति की समीक्षा की. इससे पहले पीएम मोदी ने मंगलवार शाम को भी एक बैठक की अध्यक्षता की थी. इसमें अधिकारियों को अगले कुछ दिनों में अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को तेजी से निकालने के लिए मदद मुहैया कराने का निर्देश दिया गया था.

बता दें, बीते दिन हुई बैठक में अफगानिस्तान में चल रहे बदलावों पर बातचीत हुई थी. साथ ही अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को लाने और वहां दूतावास ऑपरेट करने पर भी चर्चा हुई थी. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, भारत की तरफ से फिलहाल अफगानिस्तान में सरकार गठन की प्रक्रिया पर नजर रखी जा रही है. इसके अलावा तालिबान के रुख को भी देखा जा रहा है. खुद पीएम मोदी करीब से अधिकारियों के संपर्क में बने हुए हैं और भारतीयों के निकाले जाने की जानकारी ले रहे हैं.

बता दे, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़कर चले जाने के बाद रविवार को तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया था. इसके बाद से वहां अफरा-तफरी का माहौल है. काबुल में भारतीय राजदूत एवं दूतावास के कर्मियों समेत 120 लोगों को लेकर भारतीय वायुसेना का एक विमान मंगलवार को अफगानिस्तान से भारत पहुंचा था. विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत सभी भारतीयों की अफगानिस्तान से सकुशल वापसी को लेकर प्रतिबद्ध है और काबुल हवाईअड्डे से वाणिज्यिक उड़ानों की बहाली होते ही वहां फंसे अन्य भारतीयों को स्वदेश लाने का प्रबंध किया जाएगा.