ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने को लेकर आईसीसी अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने कहा, ”सबसे पहले आईसीसी में सभी की ओर से मैं आईओसी, टोक्यो 2020 और जापान के लोगों को ऐसी कठिन परिस्थितियों में इस तरह के अविश्वसनीय खेलों का आयोजन करने के लिए बधाई देना चाहता हूं. यह देखना वास्तव में शानदार था और हम क्रिकेट को भविष्य के खेलों का हिस्सा बनाना पसंद करेंगे.

उन्होंने आगे कहा, ”इस बोली के पीछे हमारा खेल एकजुट है और हम ओलंपिक को क्रिकेट के दीर्घकालिक भविष्य के हिस्से के रूप में देखते हैं. विश्व स्तर पर हमारे एक अरब से अधिक प्रशंसक हैं और उनमें से लगभग 90 प्रतिशत ओलंपिक में क्रिकेट देखना चाहते हैं. स्पष्ट रूप से क्रिकेट का एक मजबूत और भावुक प्रशंसक आधार है, विशेष रूप से दक्षिण एशिया में जहां से हमारे 92% प्रशंसक आते हैं, जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका में भी 30 मिलियन क्रिकेट प्रशंसक हैं. उन प्रशंसकों के लिए अपने नायकों को ओलंपिक पदक के लिए प्रतिस्पर्धा करते देखने का अवसर आकर्षक होगा.”

उन्होंने कहा, ”हमारा मानना है कि क्रिकेट ओलंपिक खेलों के लिए एक बढ़िया होगा, लेकिन हम जानते हैं कि सिर्फ हमें एंट्री देना आसान नहीं होगा, क्योंकि कई अन्य महान खेल भी ऐसा ही करना चाहते हैं. लेकिन हमें लगता है कि अब समय आ गया है कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें और यह दिखाएं कि क्रिकेट और ओलंपिक में कितनी अच्छी साझेदारी हो सकती है.”

वहीं, यूएसए क्रिकेट के अध्यक्ष पराग मराठे ने कहा, ”क्रिकेट को ओलंपिक में शामिल करने के लिए यूएसए क्रिकेट रोमांचित है. यह आइडिया संयुक्त राज्य अमेरिका में खेल को विकसित करने की हमारी सतत योजनाओं के साथ पूरी तरह से मेल खाता है. संयुक्त राज्य अमेरिका में पहले से ही इतने उत्साही क्रिकेट प्रशंसकों और खिलाड़ियों के साथ और पूरी दुनिया में लोग इस खेल को फॉलो कर रहे हैं. ऐसे में हमें विश्वास है कि क्रिकेट को शामिल करने से लॉस एंजेल्स 2028 ओलंपिक खेलों की अहमियत और बढ़ जाएगी. इसके साथ ही हमें इस देश में क्रिकेट को मुख्यधारा के खेल के रूप में स्थापित करने के अपने दृष्टिकोण को प्राप्त करने में मदद मिलेगी.”