ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने के लिए पहला कदम उठाया जा रहा है. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने खेलों के इस ‘महाकुंभ’ में एंट्री करने के इरादे को लेकर पुष्टि कर दी है. आईसीसी ने क्रिकेट की तरफ से ओलंपिक में बोली लगाने को लेकर एक टीम का गठन कर दिया है. यह टीम 2028 लॉस एंजेल्स ओलंपिक, 2032 ब्रिस्बेन और उसके आगे भी ओलंपिक खेलों में क्रिकेट को शामिल कराने को लेकर काम करेगी. यह कदम भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के आगे बढ़ने के बाद है, जिसने अप्रैल में आईसीसी की ओलंपिक योजना का समर्थन किया था.

भारतीय बोर्ड को क्रिकेट के खेल को अन्य खेलों में शामिल करने का विरोध करने के लिए विभिन्न कारणों से जाना जाता था. हालांकि, जय शाह के बोर्ड का कार्यभार संभालने के बाद चीजें बदल गई हैं. उन्होंने हाल ही में इस मामले पर आईसीसी का समर्थन किया था. इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) के प्रमुख इयान वाटमोर आईसीसी ओलंपिक वर्किंग ग्रुप की अध्यक्षता करेंगे और उनके साथ आईसीसी की स्वतंत्र निदेशक इंदिरा नूई, जिम्बाब्वे क्रिकेट की प्रमुख तवेंगवा मुकुहलानी, आईसीसी के एसोसिएट सदस्य निदेशक और एशियाई क्रिकेट परिषद के उपाध्यक्ष महिंदा वल्लीपुरम और यूएसए क्रिकेट के अध्यक्ष पराग मराठे शामिल होंगे. मराठे को समिति में शामिल करना एक रणनीतिक निर्णय था, क्योंकि 2028 में लॉस एंजेल्स खेलों की मेजबानी करेगा. ऐसे में जल्द से जल्द क्रिकेट को ओलंपिक का हिस्सा बनने की उम्मीद की जा सकती है.