राजधानी दिल्ली में ब्‍लैक फंगस के मरीजों की सर्जरी की बढ़ती जरूरत और दिल्‍ली के सरकारी अस्‍पतालों में बढ़ते इंतजार को देखते हुए दिल्‍ली सरकार ने नया आदेश जारी किया है. दिल्ली के डीजीएचएस ने दिल्‍ली आरोग्‍य कोष योजना की गाइडलाइंस में बड़ा बदलाव किया है जिसके तहत अब म्‍यूकरमाइकोसिस के मरीजों की सर्जरी इस योजना के तहत प्राइवेट अस्‍पतालों में भी हो सकेगी.

बता दें, दिल्‍ली में रहने वाले लोगों को इस बदलाव से काफी राहत पहुंचेगी. दिल्‍लीवासियों, खासतौर पर दिल्‍ली के वोटर आईडी कार्ड वाले लोगों के लिए यहां कैशलैस सर्जरी स्‍कीम दिल्‍ली आरोग्‍य कोष लागू है. जिसके तहत म्‍यूकरमायकोसिस की सर्जरी भी आती है लेकिन दिल्‍ली सरकार के चुनिंदा अस्‍पतालों में ही ब्‍लैक फंगस यानि म्‍यूकरमाइकोसिस के ऑपरेशन की सुविधा है ऐसे में बहुत सारे लोगों को सर्जरी के लिए इंतजार करना पड़ रहा है.

डीजीएचएस ने जीवन को नुकसान पहुंचाने वाली इस बीमारी से जूझ रहे लोगों को राहत देते हुए अब गाइडलाइंस में बदलाव किया है. अब से आरोग्‍य कोष योजना के तहत आने वाले ब्‍लैक फंगस के मरीजों को सरकारी अस्‍पतालों से पैनल में आने वाले प्राइवेट अस्‍पतालों में रैफर किया जा सकेगा और उनकी सर्जरी समय पर हो सकेगी.

डीजीएचएस के अनुसार अगर किसी भी सरकारी अस्‍पताल में म्‍यूकरमाइकोसिस की सर्जरी के लिए सात दिन के बाद की तारीख दी जाती है तो उसे इंतजार करवाने के बजाय प्राइवेट अस्‍पताल में भर्ती कराया जा सकेगा जहां उसकी समय से सर्जरी हो सकेगी. बता दें कि दिल्‍ली सरकार ने म्‍यूकरमाइकोसिस को जीवन को नुकसान पहुंचाने वाली बीमारी में शामिल किया है जिसके तत्‍काल और समय पर ऑपरेशन की जरूरत है.