कांग्रेस नेता राहुल गांधी सोमवार को संसद के मानसून सत्र के दौरान ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे. इस दौरान उनके साथ कांग्रेस के कई नेता मौजूद थे. राहुल ऐसे वक्त में ट्रैक्टर चलाकर संसद आए जब परिसर से 150 मीटर दूरी पर स्थित जंतर-मंतर पर किसानों की संसद चल रही है. ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचने के बाद राहुल गांधी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि किसानों का जो संदेश है, हम उसे संसद तक लाए हैं. किसानों को दबाया जा रहा है इसलिए हम ट्रैक्टर से आए हैं. उन्होंने कहा कि संसद में इस विषय पर चर्चा नहीं करने दी जा रही है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार को कानून वापस लेना होगा.

बता दें, राहुल गांधी ने कहा कि सरकार के अनुसार, किसान बहुत खुश हैं और जो (विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान) बाहर बैठे हैं वे आतंकवादी हैं. लेकिन हकीकत में किसानों का हक छीना जा रहा है. उन्होंने कहा कि मैं संसद में किसानों का संदेश लाया हूं. वे (सरकार) किसानों की आवाज दबा रहे हैं और संसद में चर्चा नहीं होने दे रहे हैं. उन्हें इन काले कानूनों को निरस्त करना होगा .पूरा देश जानता है कि ये कानून 2-3 बड़े कारोबारियों के पक्ष में हैं. कांग्रेस नेता राहुल गांधी जो ट्रैक्टर चला रहे थे उस पर उनके साथ राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा, प्रताप सिंह बाजवा और पार्टी के कुछ अन्य सदस्य बैठे थे.

वहीं इस ट्रैक्टर मार्च के बाद धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला, युवा कांग्रेस प्रमुख श्रीनिवास बीवी और कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया.