राजस्थान में गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद तेज हो गई है. इस बीच राजस्थान के पीसीसी अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने आज यानी रविवार को एक अर्जेंट बैठक बुलाई, लेकिन इस बैठक के शुरू होने के साथ ही पायलट गुट के समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया. वह राजस्‍थान के पूर्व पीसीसी चीफ सचिन पायलट को सीएम अशोक गहलोत की जगह नया सीएम बनाने की मांग कर रहे हैं.

बता दें कि पंजाब कांग्रेस का विवाद सुलझने के बाद अब हाईकमान ने राजस्थान को लेकर कवायद तेज कर दी है. इस बीच अशोक गहलोत मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर राजस्‍थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन और कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल शनिवार को सीएम से चर्चा के बाद आज करीब दोपहर 12 बजे दिल्‍ली के लिए रवाना हो गए हैं. सूत्रों के मुताबिक, राजस्‍थान के कुछ मौजूदा मंत्रियों का पत्ता कटेगा, तो पायलट कैंप को जगह मिलेगी. हालांकि इन सभी फैसलों का ऐलान कांग्रेस हाईकमान की अनुमति के बाद ही किया जाएगा. राजस्थान मंत्रिमंडल के मौजूदा हिसाब से गहलोत सरकार में 9 और मंत्री बनाए जा सकते हैं.

वहीं, अजय माकन ने कहा कि हम जल्द ही (राज्य मंत्रिमंडल विस्तार के संबंध में) अपने फैसले की घोषणा करेंगे. इसके अलावा जिला और ब्लॉक स्तर की कांग्रेस टीमों की नियुक्ति पर राय लेने के लिए कांग्रेस विधायकों से अलग-अलग मिलने के लिए मैं 28 जुलाई और 29 जुलाई को फिर से राजस्थान का दौरा करूंगा.

बहरहाल, राजस्‍थान के प्रभारी अजय माकन और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल आज मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद अंतिम नामों की सूची लेकर दिल्‍ली लौट गए हैं. इसके बाद वह कांग्रेस की अंतिरम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे. सूत्रों के मुताबिक, सोनिया गांधी ही मंत्रिमंडल के पुनर्गठन की सूची पर अन्तिम फैसला लेंगे. यही नहीं, सोनिया गांधी की हरी झंडी के बाद ही मुख्यमंत्री अशोक मंत्रिमंडल फेरबदल के लिए तारीख तय करेंगे.