एक गोल से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गोलकीपर पीआर श्रीजेश के शानदार प्रदर्शन की मदद से न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया. इसके साथ टीम ने टोक्यो ओलंपिक में जीत के साथ शुरुआत की. पिछले चार दशक में पहला ओलंपिक पदक जीतने की कोशिश में जुटी भारतीय टीम ने अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन करते हुए ग्रुप-ए का यह मुकाबला जीता. कई वीडियो रेफरल के बीच खेले गए मैच के आखिरी मिनट में न्यूजीलैंड को पेनल्टी कॉर्नर मिला, जिसे श्रीजेश ने गोल में नहीं बदलने दिया.

न्यूजीलैंड के लिए छठे मिनट में पेनल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ केन रसेल ने गोल किया. भारत के लिए रूपिंदर पाल सिंह ने 10वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक पर बराबरी का गोल दागा. ड्रैग फ्लिकर हरमनप्रीत सिंह ने 26वें और 33वें मिनट में गोल किए. न्यूजीलैंड के लिए दूसरा गोल 43वें मिनट में स्टीफन जेनिस ने दागा. हॉकी में भारत को 1980 के बाद मेडल नहीं मिला है.

भारतीय पुरुष हॉकी टीम 25 जुलाई को अपने दूसरे मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगी. ऑस्ट्रेलिया ने भी टूर्नामेंट में जीत के साथ आगाज किया है. टीम ने मेजबान जापान को एकतरफा मुकाबले में 5-3 से हराया. ग्रुप-ए में भारत, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अर्जेंटीना, स्पेन और जापान हैं. वहीं ग्रुप-बी में बेल्जियम, कनाडा, जर्मनी, ब्रिटेन, नीदरलैंड्स और जर्मनी हैं. दोनों ग्रुप की टॉप-4 टीम को क्वार्टर फाइनल में जगह मिलेगी.

बता दें, हॉकी के ग्रुप स्टेज के मुकाबले 24 जुलाई से शुरू हुए. ग्रुप स्टेज के मुकाबले 30 जुलाई तक चलेंगे. 1 अगस्त से नॉकआउट राउंड के मुकाबले खेले जाएंगे. क्वार्टर फाइनल के मुकाबले 1 अगस्त को, सेमीफाइनल 3 अगस्त को जबकि गोल्ड व ब्रॉन्ज मेडल के मुकाबले 5 अगस्त को खेले जाएंगे. 2016 रियो ओलंपिक की बात करें तो अर्जेंटीना ने गोल्ड मेडल, बेल्जियम ने सिल्वर और जर्मनी ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था. भारतीय टीम 8वें नंबर पर रही थी.