देश की राजधानी दिल्ली में आखिरकार बारिश का दौर शुरू हो गया. राजधानी के कई इलाकों में मंगलवार सुबह से ही झमाझम बारिश हो रही है. इससे लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली है. वहीं, तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है. दिल्‍ली में बारिश न होने से मौसम का मिजाज काफी गर्म हो गया था. तापमान लगातार 40 डिग्री के ऊपर बना हुआ था. इससे लोगों को भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा था.

बता दें कि दिल्‍ली में मानसून को लेकर लगातार गलत हो रहे पूर्वानुमानों पर मौसम विभाग ने सफाई दी है. IMD ने इसे विरला और असामान्‍य बताया है. IMD के मुताबिक पिछले कुछ सालों में दिल्लो में मानसून को लेकर एकदम सही भविष्यवाणी की गई और देश के अनेक हिस्सों को लेकर भी विभाग का पूर्वानुमान सही रहा है. IMD लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए है और दिल्ली समेत उत्तर पश्चिम भारत के बाकी इलाकों में मानसून के बारे में नियमित अपडेट देता रहेगा.

इससे पहले मौसम विभाग ने उत्तर भारत के कई इलाकों में सोमवार को बारिश का अनुमान जताया था. विभाग ने अगले दो घंटे में दिल्ली और एनसीआर (Delhi-NCR) के कई इलाकों, हरियाणा, उत्तराखंड, चंडीगढ़ और पश्चिम उत्तर प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश का अनुमान जताया था. उसके मुताबिक दक्षिण-पश्चिम मॉनसून आगे बढ़ गया है और 12 जुलाई को राजस्थान और पंजाब के अधिकांश हिस्सों और हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ और हिस्सों में फैल गया है. दक्षिण-पश्चिम मानसून की उत्तरी सीमा अब जैसलमेर, नागौर, भरतपुर, अलीगढ़, करनाल और गंगानगर से होकर गुजर रही है.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार इन परिस्थितियों के प्रभाव में अगले दो दिन के दौरान उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में भारी से भारी बारिश होने की संभावना है. विभाग ने कहा, ‘पिछले तीन दिन से बंगाल की खाड़ी से नमी वाली पुरवाई हवाओं के चलने से बादलों का दायरा बढ़ गया और पिछले चौबीस घंटे में कई स्थानों पर बारिश हुई. दक्षिण पश्चिम मॉनसून आगे बढ़ गया है और 12 जुलाई को राजस्थान के अधिकतर स्थानों के साथ ही हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ और स्थानों पर दस्तक दे चुका है.