बॉलिवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का लंबी बीमारी के बाद बुधवार सुबह निधन हो गया.  वह 98 वर्ष के थे. अभिनेता दिलीप कुमार का इलाज कर रहे डॉक्टर जलील पारकर ने बताया कि लंबी बीमारी के कारण सुबह साढ़े सात बजे उनका निधन हो गया. हिंदी फिल्म जगत में ‘ट्रेजेडी किंग’ के नाम से मशहूर हुए दिलीप कुमार मंगलवार से हिंदुजा अस्पताल की गैर-कोविड आईसीयू में भर्ती थे. पारिवारिक मित्र फैसल फारूकी ने अभिनेता के ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया, ‘भारी मन और गहरे दुख के साथ, मैं कुछ मिनट पहले अपने प्यारे दिलीप साब के निधन की घोषणा करता हूं. हम भगवान के हैं और हमें उन्हीं की ओर लौटना है.’ कुमार के निधन पर कई राजनीतिक हस्तियों ने भी शोक प्रकट किया.

हिन्दी सिनेमा के ट्रेजेडी किंग के इंतकाल से राजनीति और सिनेमा से लेकर सारे देश में गम का माहौल है. उनके निधन की खबर सुनकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो को फोन कर हिम्मत बंधाया है. इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘दिलीप कुमार का जाना हमारी सांस्कृतिक दुनिया के लिए एक क्षति है. उनके परिवार, दोस्तों और असंख्य प्रशंसकों के प्रति संवेदना.

पीएम मोदी ने लिखा कि ‘दिलीप कुमार जी को सिनेमा की दुनिया में महान शख्स के रूप में याद किया जाएगा. उन्हें अनोखी प्रतिभा का आशीर्वाद मिला था, जिस वजह से कई पीढ़ियों के लोग उनके चाहने वाले थे. उनका जाना हमारी सांस्कृतिक दुनिया के लिए एक नुकसान है. उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं.’

वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘दिलीप कुमार जी के परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना. भारतीय सिनेमा में उनके असाधारण योगदान को आने वाली पीढ़ियों के लिए याद किया जाएगा.’

बता दें हिंदी फिल्मों के सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में गिने जाने वाले दिलीप कुमार ने 1944 में ‘ज्वार भाटा’ फिल्म से अपने कॅरियर की शुरुआत की थी और अपने पांच दशक लंबे कॅरियर में ‘मुगल-ए-आजम’, ‘देवदास’, ‘नया दौर’ तथा ‘राम और श्याम’ जैसी अनेक हिट फिल्में दीं. वह आखिरी बार 1998 में आई फिल्म ‘किला’ में नजर आए थे.