देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की रफ्तार अब धीमी पड़ने लगी है. देश में महामारी की तीसरी लहर की आशंका के बीच तेजी से टीकाकरण किया जा रहा है. दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला ने गुरुवार को अपनी वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मांगी. भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) से मंजूरी मिलने के बाद 12+ वाले बच्चों का टीकाकरण शुरू किया जा सकेगा.

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में भारत को जल्द ही एक और हथियार मिलने वाला है. जायडस कैडिला वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है. अगर सरकार से अनुमति मिल जाती है तो जुलाई के अंत तक या अगस्त में 12-18 आयु वर्ग के बच्चों को यह टीका दिया जाएगा.

अगर केंद्र सरकार वैक्सीन को मंजूरी देती है तो फिर भारत के पास दूसरा देसी टीका हो जाएगा. इससे पहले, भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवाक्सिन को मंजूरी मिल चुकी है और जब से टीकाकरण अभियान शुरू हुआ है, तभी से कोवाक्सिन का इस्तेमाल भी हो रहा है.