ट्विटर ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकाउंट आज सुबह एक घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया. ट्विटर के इस कार्रवाई पर रविशंकर प्रसाद ने नाराजगी प्रकट की. वहीं ट्विटर ने इसके पीछे की वजह बताते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री ने अमेरिका के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन किया है. हालांकि बाद में ट्विटर ने चेतावनी देते हुए रविशंकर प्रसाद के अकाउंट को फिर से खोल दिया.

इस मामले पर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ट्विटर की कार्रवाई सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यस्थ दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम, 2021 के नियम 4 (8) के घोर उल्लंघन में से एक थी. उन्होंने कहा कि अकाउंट ब्लॉक करने से पहले ट्विटर ने मुझे कोई नोटिस नहीं दिया. बता दें कि सोशल मीडिया कंपनी की ये कार्रवाई ऐसे समय में सामने आई है जब केंद्र सरकार और ट्विटर के बीच नए आईटी नियमों को लेकर टकराव चल रहा है. हालांकि कंपनी ने फिर अकाउंट को खोल दिया.

आपको बता दें, ट्विटर का स्क्रीनशॉट रविशंकर प्रसाद ने पहले कू ऐप पर शेयर किया. इसके बाद उन्होंने ट्विटर पर स्क्रीनशॉट्स शेयर करते हुए  रविशंकर प्रसाद ने कहा कि किसी भी सोशल मीडिया कंपनी को नए आईटी कानून का पालन करना पड़ेगा. इसे लेकर कोई समझौता नहीं किया जाएगा. ट्विटर की कार्रवाई यह बताती है कि वो बोलने की आजादी के हित में नहीं है, उसे सिर्फ अपना एजेंडा चलाने में दिलचस्पी है. रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि अमेरिका में ट्विटर अलग नियम मानता है, लेकिन भारत के लिए ये अलग है.  केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आखिर कोई कंपनी अमेरिकी कानून को भारत में कैसे मानक बना सकती है.