प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 जून को जम्मू-कश्मीर को लेकर सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसके लिए जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती बुधवार को श्रीनगर स्थित अपने आवास से दिल्ली के लिए रवाना हो चुकी हैं.

दरअसल, पीएम मोदी ने जम्मू-कश्मीर को लेकर एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है. जिसमें पीएम मोदी के अलावा, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू-कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा, एनएसए अजित डोवाल, पीएम मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा, गृहसचिव अजय भल्ला के अलावा कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल रह सकते हैं.

आपको बता दें कि सर्वदलीय बैठक के लिए केंद्र सरकार की ओर से जम्मू-कश्मीर के कुल 16 नेताओं को न्योता भेजा गया है. इस बठक के लिए नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, गुलाम अहमद मीर, ताराचंद, पीडीपी की महबूबा मुफ़्ती, भाजपा के निर्मल सिंह, कविन्द्र गुप्ता और रविन्द्र रैना, पीपुल्स कांफ्रेंस के मुजफ्फर बेग और सज्जाद लोन, पैंथर्स पार्टी के भीम सिंह, सीपीआईएम के एमवाई तारीगामी और जेके अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी को बैठक में आमंत्रित किया गया है.

बता दें, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने 22 जून को कहा था कि वह प्रधानमंत्री की सर्वदलीय बैठक के दौरान जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा बहाल करने पर जोर देंगी. उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा रद्द करने के ‘अवैध’ और ‘असंवैधानिक’ कदम को वापस लिए बगैर क्षेत्र में शांति बहाल नहीं हो सकती. श्रीनगर में गुपकार गठबंधन (पीएजीडी) की एक बैठक के बाद उन्होंने कहा कि 24 जून को प्रधानमंत्री के साथ बैठक के दौरान वह जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा बहाल करने के लिए जोर देंगी, जिसे ‘हमसे छीन लिया गया है.