उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच एजेंसियों को मामले के तह तक जाने का निर्देश दिया है. बता दें, उत्तर प्रदेश की आतंकवाद निरोधी शाखा (एटीएस) ने दो मुसलमान धर्मगुरुओं को साजिश के तहत हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराने के आरोप में गिरफ्तार किया है जिसके बाद योगी सरकार ने इस मामलें पर सख्त रुख अपना लिया है सीएम योगी ने कहा है कि जो भी लोग इस मामले में शामिल हैं, उनके ख़िलाफ़ गैंगस्टर और एनएसए लगाया जाए साथ ही उनकी प्रॉपर्टी ज़ब्त करने की कार्रवाई की जाएगी.

आपको बता दें कि हाल ही में उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक धर्मांतरण रैकेट का भांडाफोड़ हुआ है. नोएडा पुलिस को लंबे वक्त से इसकी शिकायत मिल रही थी, जिसके बाद एटीएस की मदद से इस मामले में एक्शन लिया गया. यूपी एटीएस ने इस मामले में आरोपी मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी को गिरफ्तार किया है.

पुलिस सूत्रों को इस मामले में विदेशी फंडिंग और कई लोगों के शामिल होने की भी जानकारी मिली है. पुलिस के मुताबिक, ये लोग मूक-बाधिर बच्चों को धर्मांतरण का शिकार बनाते थे, साथ महिलाओं को भी लालच देकर धर्मांतरण कराया जाता था.

गौरतलब है कि अब धर्मांतरण के मामले में गिरफ्तार मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी और मोहम्मद उमर गौतम की कस्टडी रिमांड पर अदालत में मंगलवार को सुनवाई होगी.

इसके पहले सोमवार को दोनों को कड़ी सुरक्षा के बीच लखनऊ में अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सत्यवीर सिंह की कोर्ट में पेश किया गया था. कोर्ट ने दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में तीन जुलाई तक के लिए जेल भेज दिया था, वही, पुलिस कस्टडी रिमांड के लिए एटीएस के विवेचक के प्रार्थना पत्र पर अदालत सुनवाई करेगी.